कोरोना / देशभक्ति / सुविचार / प्रेम / प्रेरक / माँ / स्त्री / जीवन

रतन कुमार अगरवाला

रतन कुमार

अगरवाला

6 दिसम्बर, 1965

बारे में


रतन कुमार अगरवाला जी बचपन से ही वे बड़े मेधावी थे और पढ़ाई की ओर बड़ा रुझान था। बचपन से ही उन्हें स्कूल में कविता आवृत्ति, निबंध लेखन, चित्रकारी का बहुत शौक़ था। तर्क वितर्क प्रतियोगिता में भी वे हिस्सा लिया करते थे। सन् १९८२ में मैट्रिक की परीक्षा में प्रथम डिवीजन (७५%) प्राप्त कर उन्होंने गुवाहाटी कॉमर्स कॉलेज में वाणिज्य शाखा में दाख़िला लिया और प्री यूनिवर्सिटी परीक्षा में असम राज्य में दूसरा स्थान और बी कॉम में गुवाहाटी विश्वविद्यालय के तहत पहला स्थान प्राप्त किया। सन् १९९१ में वे सी॰ ए॰ की परीक्षा में उत्तीर्ण हुए। इस दौरान पढ़ाई के बोझ के कारण कविता और कला से उनका ध्यान हट गया था। आज वे स्वतंत्र तौर पर सी॰ ए॰ प्रैक्टिस में रत है। कविता और कला के प्रति उनका रुझान फिर जाग उठा और उन्होंने अपनी रोज़मर्रा की ज़िंदगी से कुछ वक़्त कविता और कला को देने का निर्णय किया।


निबंध (1)



कविता (65)



आलेख (2)



            

रचनाएँ खोजें

रचनाएँ खोजने के लिए नीचे दी गई बॉक्स में हिन्दी में लिखें और "खोजें" बटन पर क्लिक करें