कोरोना / देशभक्ति / सुविचार / प्रेम / प्रेरक / माँ / स्त्री / जीवन




नज़्म

गीत के जितने कफ़न हैं - कुँअर बेचैन
  सृजन तिथि :
ज़िंदगी की लाश ढकने के लिए गीत के जितने कफ़न हैं हैं बहुत छोटे रात की प्रतिमा सुधाकर ने छूई पीर ये फिर से सिता
आधी रात - फ़िराक़ गोरखपुरी
  सृजन तिथि :
1 सियाह पेड़ हैं अब आप अपनी परछाईं ज़मीं से ता-मह-ओ-अंजुम सुकूत के मीनार जिधर निगाह करें इक अथाह गुम-शुदगी इक एक कर
कोई बात दबी हैं - कर्मवीर सिरोवा
  सृजन तिथि : अक्टूबर, 2020
तेरे नूरानी बदन पे कसक कोई सजी हैं, तुझसे मिलकर कह दूँ होठों में कोई बात दबी हैं। मिन्नतें तमाम अज़ीज़ों की मेरे स
बेमौल माज़ी - कर्मवीर सिरोवा
  सृजन तिथि : नवम्बर, 2020
शामों की सुर्ख़ फ़ज़ाओं में तुझसे मुख़ातिब हुआ कभी, माहताब ने भी तिरे दूधिया अक्स को उतरने दिया कभी। शबे-पहर तन्हाई ने
तू सज-धज के नज़र आती हैं - कर्मवीर सिरोवा
  सृजन तिथि : नवम्बर, 2020
शफ़क़ की पैरहन ओढ़ें शाम जब मिरे मस्कन आती हैं, सुर्ख़ मनाज़िर में तू दुल्हन बनी सज-धज के नज़र आती हैं। तन्हा रात हैं, शोख़
पत्ता गोभी - कर्मवीर सिरोवा
  सृजन तिथि : अक्टूबर, 2020
मिरे दर पर हुजूम में, साथी कोई पुराना आया हैं। आज़ीज़ों की बज़्म में, क़त्ल का फ़रमान आया हैं। मोहब्बत के खेल में, जाम त
अपनी भी दीवाली होती - रोहित गुस्ताख़
  सृजन तिथि : 4 नवम्बर, 2021
होता तेरे चेहरे का नूर, रात न फिर ये काली होती। जश्न मनाते साथ तुम्हारे, अपनी भी दीवाली होती। बैठे हैं हम मन को मार
तेरे बिना - कर्मवीर सिरोवा
  सृजन तिथि : मार्च, 2021
तेरे बिना रो पड़ता हूँ तुझे राज़ी करने के लिए, तेरे बिना जीवन मानिंद जहन्नुम हैं। तू नहीं तो जीवन का हर सुख दुःख हैं।
मुकम्मल जहान हैं - कर्मवीर सिरोवा
  सृजन तिथि : 27 फ़रवरी, 2019
मेहमाँ तिरे आने से जीवन में आया मिठास हैं, ये शादी का लड्डू जीवन में लाया उल्लास हैं। कहते हैं ये लड्डू जो खाए वो पछ
मौत का तांडव - सुषमा दीक्षित शुक्ला
  सृजन तिथि : 1 अप्रैल, 2020
दिख रहा मौत का कैसा तांडव, हाय ये किसने क़यामत ढाया। बेबसी क्यूँ कर दी कुदरत तूने, हाय कैसा ये कैसा क़हर छाया। मौत क
कर्मवीर मास्टर - कर्मवीर सिरोवा
  सृजन तिथि : 15 जनवरी, 2020
मिरी मसर्रतों से गुफ़्तगू कर ज़ीस्त ने कुछ यूँ फ़रमाया हैं, ज्ञानमन्दिर में आकर हयात ने हयात को गले लगाया हैं। सोहबत
मोगरे का फूल - कर्मवीर सिरोवा
  सृजन तिथि : 28 अप्रैल, 2021
चश्म-ओ-गोश के तट पे चिड़िया चहचहाने आई, रिज़्क़ लाज़िम हैं, उठ ना, बख़्त कहता है। अब तक ना सजी मिरी सुब्ह-ओ-जीस्त, बग़ैर ति
मेरा मुस्तक़बिल नज़र आता हैं - कर्मवीर सिरोवा
  सृजन तिथि : 2021
सुनकर ये मधुर धक-धक की आवाज़ ये सच मन में जागा है, हो न हो दिल रुपी सरिता में तेरे नाम का कंकड़ तसव्वुर ने फेंका है। तुम

Load More

            

रचनाएँ खोजें

रचनाएँ खोजने के लिए नीचे दी गई बॉक्स में हिन्दी में लिखें और "खोजें" बटन पर क्लिक करें