कोरोना / देशभक्ति / सुविचार / प्रेम / प्रेरक / माँ / स्त्री / जीवन



विधा/विषय " - मुक्तक"

शिक्षक ही पंख लगाते हैं - सुषमा दीक्षित शुक्ला
  सृजन तिथि : 5 जून, 2020
तम-तोम मिटाते हैं जग का, शिक्षक धरती के दिनकर हैं। हैं अंक सजे निर्माण प्रलय, शिष्यों हित प्रभु सम हितकर हैं। शुच

Load More

            

रचनाएँ खोजें

रचनाएँ खोजने के लिए नीचे दी गई बॉक्स में हिन्दी में लिखें और "खोजें" बटन पर क्लिक करें