कोरोना / देशभक्ति / सुविचार / प्रेम / प्रेरक / माँ / स्त्री / जीवन



विधा/विषय " - हरिगीतिका छंद"

माँ कात्यायनी वन्दना - अभिनव मिश्र 'अदम्य'
  सृजन तिथि : दिसम्बर, 2020
हे! मात! नत मस्तक नमन नित, वन्दना कात्यायनी। अवसाद सारे नष्ट कर हे, मात! मोक्ष प्रदायनी। हे! सौम्य रूपा चन्द्र वदनी,

Load More

            

रचनाएँ खोजें

रचनाएँ खोजने के लिए नीचे दी गई बॉक्स में हिन्दी में लिखें और "खोजें" बटन पर क्लिक करें