कोरोना / देशभक्ति / सुविचार / प्रेम / प्रेरक / माँ / स्त्री / जीवन



विधा/विषय " - कहानी"

हृदय परिवर्तन - अंकुर सिंह
  सृजन तिथि : 26 अक्टूबर, 2021
"अच्छा माँ, मैं चलता हूँ ऑफ़िस आफिस को लेट हो रहा है। शाम को थोड़ा लेट आऊँगा आप और पापा टाइम से डिनर कर लेना।" अंकित ने
आईना - अंकुर सिंह
  सृजन तिथि : 8 अक्टूबर, 2021
"बेटा सुनील, मैंने पूरे जीवन की कमाई नेहा की पढ़ाई में लगा दी, मेरे पास दहेज में देने के लिए कुछ भी नहीं है।" शिवनाराय
ख़ुदकुशी क्यूँ की? - सुषमा दीक्षित शुक्ला
  सृजन तिथि : 5 जून, 2021
27 वर्षीय रोहित सरकारी बैंक में मैनेजर के पद पर तैनात था, जिसका विवाह 2 वर्ष पूर्व ख़ूबसूरत दीपिका से हुआ था। दोनों का
मुक्त आकाश - सुधीर श्रीवास्तव
  सृजन तिथि : 17 अगस्त, 2020
घनघोर वारिश के बीच कच्चे जंगली रास्ते पर भीगता काँपता हुआ सचिन घर की ओर बढ़ रहा था। उसे माँ की चिंता हो रही थी, जो इस व
उपहार - सुधीर श्रीवास्तव
  सृजन तिथि : अगस्त, 2020
आज रक्षाबंधन का त्योहार था। मेरी कोई बहन तो थी नहीं जो मुझे (श्रीश) कुछ भी उत्साह होता। न ही मुझे किसी की प्रतीक्षा म
सफ़र से हमसफ़र - अंकुर सिंह
  सृजन तिथि : 5 अगस्त, 2021
ये सीट मेरी है, विजयवाड़ा स्टेशन पर इतना सुनते अमित ने पीछे मुड़कर देखा तो एक हमउम्र की लड़की एक हाथ में स्मार्ट फोन
भोर की प्रतीक्षा में - प्रवीण श्रीवास्तव
  सृजन तिथि : 2020
सुधा गृह कार्य से निपटकर आराम करने की ही सोच रही थी कि अचानक किसी ने दरवाज़े पर दस्तक दी। मन ही मन कुढ़ती हुई सुधा दरवा
कर भला तो हो भला - अंकुर सिंह
  सृजन तिथि : 6 जुलाई, 2021
"क्या हुआ मोहन, इतने उदास क्यों हो? तुम तो इंटरव्यू के लिए गए थे, क्या हुआ तुम्हारी नौकरी का?" -जाड़े के दिनों में मोहन
प्रेम की फ़सल - रोहित गुस्ताख़
  सृजन तिथि : दिसम्बर, 2020
वक़्त के साथ सोहन भी बड़ा हो रहा था, जिस क़बीले में वो रहता था। वहाँ अक्सर लड़ाई-झगड़ा, गाली-गलौज लोग एक दूसरे को बिल्कुल न
सौतेला - सुधीर श्रीवास्तव
  सृजन तिथि : 2021
माँ को रोता देख रवि परेशान सा हो गया। पास में बैठे गुम-सुम बड़े भाई से पूछा तो माँ फट पड़ी। उससे क्या पूछता है? मैं ही बत

Load More

            

रचनाएँ खोजें

रचनाएँ खोजने के लिए नीचे दी गई बॉक्स में हिन्दी में लिखें और "खोजें" बटन पर क्लिक करें