कोरोना / देशभक्ति / सुविचार / प्रेम / प्रेरक / माँ / स्त्री / जीवन



विधा/विषय " - आल्हा छंद"

जय हिन्द जय हिन्द की सेना - सतीश मापतपुरी
  सृजन तिथि : जनवरी, 2021
नहीं छोड़ना उस कायर को, सीमा पर जो चढ़ा सियार। आर-पार का करो फ़ैसला, मारो खींच गले तलवार।। सबक़ सिखाना होगा इनको, जो भारत

Load More

            

रचनाएँ खोजें

रचनाएँ खोजने के लिए नीचे दी गई बॉक्स में हिन्दी में लिखें और "खोजें" बटन पर क्लिक करें