कोरोना / देशभक्ति / सुविचार / प्रेम / प्रेरक / माँ / स्त्री / जीवन



विधा/विषय " - सजल"

है दुनिया पर नहीं भरोसा - अविनाश ब्यौहार
  सृजन तिथि : 2 अगस्त, 2019
है दुनिया पर नहीं भरोसा, पानी पी पी कर है कोसा। घर में इतनी चहल पहल है, औ कुढ़ कर बैठा है गोशा। ऑफ़िस की मीटिंग में म
उपदा केवल खाम ख़याली है - अविनाश ब्यौहार
  सृजन तिथि : 15 अगस्त, 2019
उपदा केवल खाम ख़याली है, सियासत में मंत्री मवाली है। अभिनन्दन जहाँ होना चाहिए, माहौल ने ताना दुनाली है। अटैची नोट
साक्षी हो कर भी मुकर गए - संजय राजभर 'समित'
  सृजन तिथि : 19 जुलाई, 2019
साक्षी हो कर भी मुकर गए, ज़मीर पल में क्यों बिसर गए। माँ-बाप भगवान लगते थे, आँखों से अब क्यों उतर गए। विडियो बनाने म
सख़्त शहर नहीं क़बीले हैं - अविनाश ब्यौहार
  सृजन तिथि : 2021
सख़्त शहर नहीं क़बीले हैं। हरकत से ढीले-ढीले हैं।। लगे हुए जो घर के सम्मुख, कनेर वे पीले-पीले हैं। बादाम-दशहरी या चौ

Load More

            

रचनाएँ खोजें

रचनाएँ खोजने के लिए नीचे दी गई बॉक्स में हिन्दी में लिखें और "खोजें" बटन पर क्लिक करें