Covid19 / किसान / देशभक्ति / सुविचार / बेटी / प्रेरक / माँ / जानकारी / ज्ञान / नारी / भक्ति / दोस्ती / इश्क़ / ज़िंदगी / ग़म

अंधविश्वास अखबार अधिकार अपराध अनमोल अब्दुल कलाम अभिलाषा अरमान अवसाद असफलता अहंकार


आँख आँसू आईना आकाश आत्मनिर्भर आत्महत्या आदत आदमी आधुनिकता आंनद आयु आवाज़


इंसान इंसानियत इश्क़


ईद ईश्वर


उद्देश्य उम्मीद उम्र


"ऊ" से अभी कोई विषय मौजूद नहीं है।



एकता


"ऐ" से अभी कोई विषय मौजूद नहीं है।



"ओ" से अभी कोई विषय मौजूद नहीं है।



"औ" से अभी कोई विषय मौजूद नहीं है।



क़ब्र कमजोरी कर्म कलम कवि काँटा कामना कामयाब कारगिल विजय दिवस किताब किसान किस्मत कुदरत कृष्ण जन्माष्टमी


ख़ामोशी खुशबू खुशी खेल ख़्याल ख़्वाब


ग़म गरीब गाँधी जयंती गाँव गुरु पूर्णिमा गैर


घर


चन्द्रशेखर आजाद चाँद चाय चाहत चिंता चुनाव चुनौती चूड़ियाँ चेहरा चैन


छठ पर्व छाँव


जनता जमाना जमीन जल जवानी जान जानकारी ज़िंदगी जीवन


"झ" से अभी कोई विषय मौजूद नहीं है।



"ट" से अभी कोई विषय मौजूद नहीं है।



"ठ" से अभी कोई विषय मौजूद नहीं है।



डर डोली


"ढ" से अभी कोई विषय मौजूद नहीं है।



तन्हा तारा तिरंगा तीज तीर्थ तुलसीदास


"थ" से अभी कोई विषय मौजूद नहीं है।



दर्द दान दिल दिवाली दीया दीवाना दुःख दुर्घटना दुश्मन दुश्मनी दुष्कर्म दूर देर देश देशभक्ति दोस्ती दौर


धन धनतेरस धरती धूप धैर्य


नज़र नफ़रत नव वर्ष नवरात्रि नाग पंचमी नारी नास्तिक निर्णय निंद न्याय


पक्षी पत्थर परछाई परवाह परिवर्तन परिवार पर्यावरण पशु पहचान पास पिता पितृ पक्ष पूजा पूर्णिमा पृथ्वी पेड़ पौधे प्यार प्रकृति प्रतीक्षा प्रार्थना प्रिय प्रेम प्रेमचंद प्रेरक


फरिश्ता फूल फौजी


बचपन बच्चे बहन बाघ बात बाबा साहब बारिश बुद्ध पूर्णिमा बूढ़ी बेटी बेरोजगारी बेवफ़ाई


भक्ति भगवान भगवान कृष्ण भगवान गणेश भगवान बुद्ध भगवान राम भगवान विश्वकर्मा भगवान शिव भगवान हनुमान भाई भाग्य भारत भावना भूख भूल भोजन भोर भ्रूण हत्या


मंज़िल मजदूर मजाक मधुशाला मन मर्यादा मसीहा महत्व महबूबा महान माँ माँ काली माँ दुर्गा माता पिता मानव मानवता मालिक मिट्टी मुलाकात मुस्कान मुसाफिर मृत्यु मोहब्बत मौत मौन मौसम


यात्रा याद युवा योग योगदान


रंग रक्षा बंधन राज राजनीति राजा राधा कृष्ण रावण राष्ट्र रिश्ता रोटी


लड़की लफ़्ज़ लम्हा लहू लेखक लॉकडाउन लोग


वक़्त वतन वफ़ा विजय विदा विश्वास वृक्ष वृद्ध व्यथा व्यर्थ व्यवहार


शक्ति शब्द शरद पूर्णिमा शरद ऋतु शराब शहीद शांति शान शिक्षक शिक्षा शिष्टाचार शोक श्रद्धांजलि श्रम श्राद्ध श्रृंगार


संकल्प संघर्ष संस्कार संस्कृत भाषा संस्कृति सत्य सपना सफर सफलता समय समस्या समाज समाधान सरकार सलाम सवेरा साजन साथ सादगी सावन साहस साहित्य सिनेमा सिपाही सीख सुख सुख दुःख सुखी सुरक्षा सुविचार सूरज सृष्टि सेवा सैनिक सोशल मीडिया सौतेला सौदा स्त्री स्वच्छता स्वतंत्रता स्वतंत्रता दिवस स्वदेशी स्वस्थ स्वास्थ्य


हत्या हमसफर हाथी हिंदी भाषा हृदय हैवानियत

क्ष

"क्ष" से अभी कोई विषय मौजूद नहीं है।


त्र

"त्र" से अभी कोई विषय मौजूद नहीं है।


ज्ञ

ज्ञान
क्ष त्र ज्ञ

आपके लिए (लघुकथा) Editior Choice

रीमा ससुराल से विदा होकर पहली बार मायके आई। मांँ बाप भाई बहन सब बहुत ख़ुश थे। हों भी क्यों न? अपनी सामर्थ्य से ऊपर जाकर बेटी का ब्याह अपनी समझ से अच्छे परिवार में ही किया था। एक दो दिन तक सब उल्लसित थे, फिर रीमा ने माँ के सामने अपने भावनाओं का सागर उड़ेल दिया। रीमा की बातें सुनकर माँ अवाक सी होकर रह गई।
फिर ख़ुद को सँभाला और बेटी को समझाया बुझाया हौसला दिया। जैसा कि हर माँ करती है।
लेकिन बात इतनी छोटी नहीं है कि वह अपने पति रामसरन से छिपा ले। उसनें अपने पति से सबकुछ बयान कर दिया। रामसरन सामाजिक व्यक्ति थे। अतः उन्होंने धैर्य नहीं खोया और पत्नी से कहा "बेटी को समझा दो, ससुराल में कोई भी कुछ भी कहे वो पलट कर एक भी शब्द न बोले। ससुराल में मायके का ज़िक्र तक न करे।
परसों बेटी को विदा करना है। समधी जी का फोन आया था।
हँसी खुशी से बेटी को विदा करो। जो भी बेटी को लिवाने आए उसका ढंग से स्वागत सत्कार करो। उन लोगों को अहसास भी न हो कि हमें सब पता चल गया है।
बस! फिर देखना मैं क्या चीज़ हूँ? हफ्ते दस दिन में मैं ख़ुद जाऊँगा उसके बाद हमारी बेटी को कोई कुछ नहीं कहेगा।सचमुच राज करेगी अपनी रीमा।"
मगर....।
राम सरन उकताते हुए बोले "यार! तुम औरतें क्या अगर मगर से दूर नहीं रह सकती?"

और फिर हँसी-ख़ुशी से रीमा की मायके से विदाई हो गई।
संयोग से रीमा की ससुराल के गाँव का सचिव आदेश रामसरन का मित्र था।
उसने पूरी बात आदेश को बताई और अपना इरादा भी।
आदेश रामसरन और उसके इरादे सुन गंभीर हो गया, फिर बोला "यार! बात तो तेरी ठीक है। मगर अगर कुछ उल्टा न पड़ जाए?"
देख भाई! एक तरफ़ कुँआ और एक तरफ़ खाई। निकलने का जोखिम तो लेना ही पड़ेगा न। रामसरन के स्वर में बेटी की खुशी के लिए कुछ भी कर गुज़रने का संकल्प प्रस्फूटित हो रहा था।
अंततः आदेश को तैयार होना ही पड़ा
फिर रामसरन और आदेश ने जो किया उसे देख रीमा के ससुर के पैरों तले ज़मीन खिसक गई।

दरअसल रामसरन आदेश के साथ रीमा की ससुराल टिकठी (बाँस से बनी सीढ़ी, जिसमें लाश को श्मशानघाट ले जाया जाता है) लेकर गए और बिना किसी औपचारिकता के रीमा के ससुर से कहा "समधीजी जुमा जुमा शादी को अभी माह भर भी नहीं हुए और आप दिनरात अपनी बहू को ताने देने में बड़ी उदारता दिखा रहे हैं कि उसके बाप ने जो दिया अपने बेटी दामाद को दिया।
तो आज उसका बाप वही आपको देने आया है। जो आप के काम आएगी। आप इसे स्वीकार करें और अपना मन शांत करें।"
रीमा के ससुर शर्मिंदगी से गड़े जा रहे थे। उन्होंने रामसरन से क्षमा प्रार्थना की।

रामसरन उन्हें गले लगाते हुए बोला "मेरा उद्देश्य आपको ज़लील करना नहीं था, कभी बेटी का बाप बनकर सोचिएगा, सब समझ में आ जाएगा।
अब चलता हूँ। मैं आपको आपकी बहू सौंप दी उसे कैसे रखना है? अब यह आप की ज़िम्मेदारी है।"
आदेश के साथ रामसरन वहाँ से चल दिए। रीमा के ससुर को ओझल होने तक उन्हें देखते रह गए।


सुधीर श्रीवास्तव
सृजन तिथि : 2020
            

रचनाएँ खोजें

रचनाएँ खोजने के लिए नीचे दी गई बॉक्स में हिन्दी में लिखें और "खोजें" बटन पर क्लिक करें