Covid19 / किसान / देशभक्ति / सुविचार / बेटी / प्रेरक / माँ / जानकारी / ज्ञान / नारी / भक्ति / दोस्ती / इश्क़ / ज़िंदगी / ग़म

अंधविश्वास अखबार अधिकार अपराध अनमोल अब्दुल कलाम अभिलाषा अरमान अवसाद असफलता अहंकार


आँख आँसू आईना आकाश आत्मनिर्भर आत्महत्या आदत आदमी आधुनिकता आंनद आयु आवाज़


इंसान इंसानियत इश्क़


ईद ईश्वर


उद्देश्य उम्मीद उम्र


"ऊ" से अभी कोई विषय मौजूद नहीं है।



एकता


"ऐ" से अभी कोई विषय मौजूद नहीं है।



"ओ" से अभी कोई विषय मौजूद नहीं है।



"औ" से अभी कोई विषय मौजूद नहीं है।



क़ब्र कमजोरी कर्म कलम कवि काँटा कामना कामयाब कारगिल विजय दिवस किताब किसान किस्मत कुदरत कृष्ण जन्माष्टमी


ख़ामोशी खुशबू खुशी खेल ख़्याल ख़्वाब


ग़म गरीब गाँधी जयंती गाँव गुरु पूर्णिमा गैर


घर


चन्द्रशेखर आजाद चाँद चाय चाहत चिंता चुनाव चुनौती चूड़ियाँ चेहरा चैन


छठ पर्व छाँव


जनता जमाना जमीन जल जवानी जान जानकारी ज़िंदगी जीवन


"झ" से अभी कोई विषय मौजूद नहीं है।



"ट" से अभी कोई विषय मौजूद नहीं है।



"ठ" से अभी कोई विषय मौजूद नहीं है।



डर डोली


"ढ" से अभी कोई विषय मौजूद नहीं है।



तन्हा तारा तिरंगा तीज तीर्थ तुलसीदास


"थ" से अभी कोई विषय मौजूद नहीं है।



दर्द दान दिल दिवाली दीया दीवाना दुःख दुर्घटना दुश्मन दुश्मनी दुष्कर्म दूर देर देश देशभक्ति दोस्ती दौर


धन धनतेरस धरती धूप धैर्य


नज़र नफ़रत नव वर्ष नवरात्रि नाग पंचमी नारी नास्तिक निर्णय निंद न्याय


पक्षी पत्थर परछाई परवाह परिवर्तन परिवार पर्यावरण पशु पहचान पास पिता पितृ पक्ष पूजा पूर्णिमा पृथ्वी पेड़ पौधे प्यार प्रकृति प्रतीक्षा प्रार्थना प्रिय प्रेम प्रेमचंद प्रेरक


फरिश्ता फूल फौजी


बचपन बच्चे बहन बाघ बात बाबा साहब बारिश बुद्ध पूर्णिमा बूढ़ी बेटी बेरोजगारी बेवफ़ाई


भक्ति भगवान भगवान कृष्ण भगवान गणेश भगवान बुद्ध भगवान राम भगवान विश्वकर्मा भगवान शिव भगवान हनुमान भाई भाग्य भारत भावना भूख भूल भोजन भोर भ्रूण हत्या


मंज़िल मजदूर मजाक मधुशाला मन मर्यादा मसीहा महत्व महबूबा महान माँ माँ काली माँ दुर्गा माता पिता मानव मानवता मालिक मिट्टी मुलाकात मुस्कान मुसाफिर मृत्यु मोहब्बत मौत मौन मौसम


यात्रा याद युवा योग योगदान


रंग रक्षा बंधन राज राजनीति राजा राधा कृष्ण रावण राष्ट्र रिश्ता रोटी


लड़की लफ़्ज़ लम्हा लहू लेखक लॉकडाउन लोग


वक़्त वतन वफ़ा विजय विदा विश्वास वृक्ष वृद्ध व्यथा व्यर्थ व्यवहार


शक्ति शब्द शरद पूर्णिमा शरद ऋतु शराब शहीद शांति शान शिक्षक शिक्षा शिष्टाचार शोक श्रद्धांजलि श्रम श्राद्ध श्रृंगार


संकल्प संघर्ष संस्कार संस्कृत भाषा संस्कृति सत्य सपना सफर सफलता समय समस्या समाज समाधान सरकार सलाम सवेरा साजन साथ सादगी सावन साहस साहित्य सिनेमा सिपाही सीख सुख सुख दुःख सुखी सुरक्षा सुविचार सूरज सृष्टि सेवा सैनिक सोशल मीडिया सौतेला सौदा स्त्री स्वच्छता स्वतंत्रता स्वतंत्रता दिवस स्वदेशी स्वस्थ स्वास्थ्य


हत्या हमसफर हाथी हिंदी भाषा हृदय हैवानियत

क्ष

"क्ष" से अभी कोई विषय मौजूद नहीं है।


त्र

"त्र" से अभी कोई विषय मौजूद नहीं है।


ज्ञ

ज्ञान
क्ष त्र ज्ञ

कामयाबी का परिणाम (लघुकथा)

एक छोटे से गाँव की बात है जहाँ चरनदास का परिवार रहता था जिसके दो बेटे राम और श्याम थे। राम और श्याम की माता कमला देवी उन्हें बचपन में ही छोड़कर चल बसी थी चरनदास मज़दूरी करके अपनें परिवार का पालन-पोशन करता था और अपनें बेटों को पढ़ा लिखाकर कामयाब बनानें के लिए चरनदास दिन-रात मेहनत करता, वह अपनें बच्चों को पढ़ा लिखाकर कामयाब बनाना चाहता था। चरनदास नहीं चाहता था कि उसकी भाँति उसके बेटे भी ऐसे ही हालातों में अपनी ज़िन्दगी बसर करें, चरनदास भूखा रहकर भी अपनें बेटों को स्कूल भेजता था।

राम अपने पिता की बेबसी और लाचारी को देखकर बहुत दुखी होता, वह पढ़ लिखकर कामयाब बनकर अपनें पिता को सुख चैन भरी ज़िन्दगी देना चाहता था वहीं दूसरी और श्याम मन-मौजी रहता और पढ़ने लिखनें में बिल्कुल भी ध्यान नहीं देता था।

जैसे-जैसे बेटे बड़े हुए चरनदास ने दोनों की शादी कर दी, श्याम मज़दूरी करनें लगा और कुछ समय पश्चात राम की शहर में नौकरी लग गई। जैसे-जैसे दिन गुज़रते गए चरनदास का परिवार परेशानियों से उबरनें लगा चरनदास बहुत ख़ुश था कि उसका बेटा राम कामयाब हो गया वहीं दूसरी और यह सोचकर दुखी भी होता था कि श्याम मज़दूरी करता है। लेकिन राम अपनें छोटे भाई श्याम के लिए हर सम्भव प्रयास करता और श्याम के लिए कई व्यवसाय करवाए मगर किसी भी व्यवसाय को ठीक से नहीं कर पाने के कारण वह मज़दूरी ही करने लगा। राम अपने भाई को देखकर बहुत दुखी होता और हर वक़्त मदद के लिए तैयार खड़ा रहता है, वहीं श्याम अपनी पत्नि रतना के कहनें में आकर घर के बटवारें की बात करने लगा था। चरनदास दोनों बेटों का बँटवारा करने लगता है तो श्याम अपनी मज़दूरी ग़रीबी का हवाला देते हुए बँटवारे में बेईमानी से ज़्यादा हिस्सा हड़प लेता है मगर राम ख़ुशी ख़ुशी मान जाता है।

कुछ समय पश्चात चरनदास की मृत्यु हो जाती है अब राम और श्याम दोनों अलग अलग रहनें लगे, लेकिन राम को हर वक़्त श्याम की चिंता रहती उसके बच्चों की चिंता रहती मगर श्याम की पत्नि रतना को राम की कामयाबी फूटी आँख नहीं सुहाती थी आहिस्ता आहिस्ता समय गुज़रता गया और बच्चे बड़े होने लगते है राम व राम की पत्नि शकुन्तला अपनें बच्चों (मोहन व सोहन) के साथ साथ श्याम के बच्चों (रोहन व सुनीता) का ख़्याल भी रखती थी राम अपनें व श्याम के बच्चों को पढनें के लिए बहुत उत्साहित करता था जिससे वह कामयाब इन्सान बन सके। कुछ समय बाद राम के बेटे मोहन की नौकरी लग जाती है तो श्याम की पत्नि रतना के अन्दर राम व राम के बच्चों की कामयाबी देखकर ईर्ष्या और बढनें लगती है। श्याम की पत्नि अब राम को ताने मारने लगती है और कहती है कि अपनें बच्चों की नौकरी लगा ली मगर हमारे बच्चों की नौकरी नहीं लगाई, रतना राम व राम के बच्चों के ख़िलाफ़ अपनें बच्चों के मन में भी ज़हर घोलनें लगती है जिससे राम और श्याम के बच्चों में भेद-भाव की भावना जगने लगी। और कुछ समय पश्चात श्याम की बिमारी के चलते मृत्यु हो जाती है अब श्याम के बेटे रोहन के ऊपर घर की ज़िम्मेदारी आ गई, राम हर सम्भव मदद करनें की कोशिश करता है लेकिन रोहन अपनी माँ रतना के कहनें में आकर राम व राम के बेटों के प्रति मन में द्वेष रखनें लगा था और अपनी पढाई छोड़कर ज़िम्मेदारी के चलते मज़दूरी करनें लगा, यह देखकर राम को बहुत दुख होता मगर कुछ कर नहीं पाता क्योंकि रोहन की माँ अपनें बच्चों के मन में हद से ज़्यादा ज़हर घोल चुकी थी।

अब राम की उम्र हो चली है, राम श्याम के बेटे को मज़दूरी करते देख बहुत दुखी होता है। अब राम व श्याम की तरह उनकें बेटों के बीच भी बहुत दूरियाँ हो चली है। कौन सही है कौन ग़लत मैं नहीं जनता मगर कामयाबी का परिणाम अपनें खोकर भगत रहा हूँ। राम मन ही मन बस यही सोचता कि "नाकामयाब थे तो पराए भी अपनें थे, कामयाबी आई तो अपनें भी पराए हो चले"।


विपिन दिलवरिया
सृजन तिथि : 1 जुलाई, 2021
            

रचनाएँ खोजें

रचनाएँ खोजने के लिए नीचे दी गई बॉक्स में हिन्दी में लिखें और "खोजें" बटन पर क्लिक करें